चलो कहीं डेरा डाल लेते हैं

This year has begun with great promise: one made by me, some made by life. After all the running around and hassles of the years gone by, there looks to be signs of peace.

There is hope that we can settle down (in more ways than one), let go of the trifles of everyday living, and rest.

 

Continue reading

​वोह आँखें क्या कहती हैं

नारी का सम्मान कहाँ और स्तर कहाँ…

बम्बई की ट्रेन्स में सफ़र करता हूँ रोज़, और फर्स्ट क्लास के डब्बे लेडीज और जनरल में बंटे हैं। मेरी नज़र अक्सर फेंस के उस पर खड़ी औरतों, लड़कियों पर पड़ जाती है। उन चेहरों में, उन आखों में, उनमें अनेक सवाल, कई किस्से दिखते हैं।

बस उन्हें एक रूप देकर यहाँ लिखा है।

कैसी लगी बताइयेगा…

 

Continue reading

बातें

कल किसी से बात चल रही थी। उनकी एक बात से कुछ ख्याल आया, खूबसूरत था। उस ख्याल को उनसे बातों बातों में यूँ पिरोया।

गर अच्छा लगे तो कहिएगा…

 

Continue reading